हो साधो
यह तन ठाठ तम्बूरे का
एंचत तार मरोड़त खूँटी
निकसत राग हजुरे का, हो साधो
टूटा तार बिखर गई खूँटी
हो गया धूर मधुरे का, हो साधो

Leave a Reply

Site Footer

%d bloggers like this: