ईस जगत सराऐ में,
मुसाफीर रहना दो दिन का,
क्यों विर्था करे गुमान,
माया धन काया जोबन का,
दो दिन की जिन्दगी है,
दो दिन का झमेला
क्या लेके आया था मैं
क्या लेके जाऊगा

Pickling

Leave a Reply

Site Footer

%d bloggers like this: